कंगना रनौत जीवनी | Kangana Ranaut Biography in Hindi

कंगना रनौत जीवनी | Kangana Ranaut Biography in Hindi

Kangana Ranaut Biography in Hindi: सफलता सबसे बड़ा बदलाव होता है। मुझे हमेशा लगता है कि लड़कियों को या तो तानों से या फिर अपनी सफलता से जवाब देना चाहिए। दोस्तो हिन्दी बिक्स में आज हम जानेंगे की अपनी जबर्दस्त ऐक्टिंग और ग्लैमरस लुक के कारण बॉलीवुड में अपनी मेहनत से अपने कदम जमाने वाली ऐक्ट्रेस कंगना रनौत के बारे में (information aboout Kangana Ranaut in hindi) | कंगना जी ने फिल्म गैंगस्टर से अपने फिल्मी करियर की शुरुआत की थी जिसके बाद उनकी जिंदगी में कई सारे उतार चढ़ाव आए। इंडस्ट्री में कंगना जी अपनी बोल्डनेस और निडर एटिट्यूड के लिए भी जानी जाती हैं जो उनकी एक खासियत हैं।

एक ऐसे माहौल से निकल कर जहां ज्यादा फिल्में भी नहीं देखने को मिलती थीं और ना ही घर पर ऐसा माहौल था कि कोई उन्हें फिल्म इंडस्ट्री में जाने के लिए सपोर्ट भी करता। वहां से अब तक का जो उनका सफर रहा है वो अपने आप में एक मिसाल हैं। उनकी कहानी ये भी कहती है कि कई बार जब आप कुछ करते हैं जो आपका दिल कहता है तो उसके लिए आपको अपने घर और समाज से भी स्ट्रगल करना पड़ता है। लेकिन जो काम आप मन और लगन से करना चाहते हैं उसमें आगे बढ़ने से आपको कोई भी नहीं रोक सकता। तो चलिए दोस्तों बॉलीवुड में इतनी कम उम्र में अपनी इतनी इज्जत बनाने वाली तीन नेशनल फिल्म अवॉर्ड जीत चुकी बॉलीवुड की इस क्वीन के बारे में शुरू से जानते हैं |

Kangana Ranaut Biography in Hindi

 information aboout Kangana Ranaut in hindi
information aboout Kangana Ranaut in hindi

 

दोस्तों का कंगना जी का जन्म हिमाचल प्रदेश के मंडी जिले के एक छोटे से शहर सूरजपुर में 23rd मार्च 1987 को हुआ था। इनका फैमिली बैकग्राउंड भी बहुत अच्छा था। इनके दादा जी के पिताजी एक बड़े लीडर थे पर लेजिस्लेटिव असेंबली के सदस्य भी रह चुके थे। इनके दादाजी आईएएस अधिकारी थे। इनके पिताजी बिजनेसमैन हैं और माँ टीचर हैं। इनकी एक बड़ी बहन है जिनका नाम रंगोली है और एक छोटा भाई है जिनका नाम अक्षत है। कंगना भी बचपन से ही बड़ी जिद्दी स्वभाव की थीं। पर वो जिद उनके लिए काफी फायदेमंद साबित हुई जब वह छोटी थीं तो जब उनके पिताजी उनके भाई के लिए प्लास्टिक गन और उनके लिए Doll लिया करते थे तो उन्‍हें नहीं लेती थीं और ये पूछती थी कि उनके साथ ये भेदभाव क्यों किया जा रहा है। उनके घर का माहौल बिल्कुल उस समय के भारत के किसी भी आम घर की तरह था जहां लड़की का पढ़ना लिखना और अच्छे से रहना सिर्फ इसीलिए देखा जाता था ताकि जब उसकी शादी हो तो वो अपने पति के साथ अच्छे से रह सके।

कंगना जी को भी ऐसी बातें अक्सर करके सुनने को मिलती थीं। वो बचपन से पढ़ाई में बहुत अच्छी थीं और अपने मां बाप के कहने पर डॉक्टर बनना चाहती थीं। हालांकि 12th क्लास में कैमिस्ट्री की यूनिट् test में वो फेल हो गई जिसके बाद उन्हें इस बात का एहसास हो गया कि शायद मेडिकल लाइन उनके लिए ठीक नहीं रहेगी। उन्होंने पीएमटी की तैयारी की तो थी मगर एग्जाम में नहीं बैठीं। इसकी वजह से उनके घर के लोगों से बहुत नाराज हो गए। उनके मन में खुद से कुछ करने की और आगे बढ़ने की चाहत इतनी थी कि 16 साल की उम्र में उन्होंने घर छोड़ दिया और दिल्ली में रहने लगी। हालांकि उस समय तक उन्होंने अपने करियर के बारे में कुछ भी नहीं सोचा था। वहां पर वो एक मॉडलिंग एजेंसी के संपर्क में आई जहां उन्हें बताया गया कि वे इतनी सुंदर हैं तो मॉडलिंग में जरूर ट्राई करना चाहिए। उन्होंने कुछ दिन मॉडलिंग भी की लेकिन उन्हें उसमें अच्छा नहीं लग रहा था क्योंकि उसमें कुछ खास करने के लिए या सीखने के लिए नहीं था। इसे उन्होंने अपना पूरा फोकस ऐक्टिंग की तरफ लगा दिया। उन्होंने थिएटर डायरेक्टर अरविंद

गौड़ जी से अस्मिता ट्रेनिंग ग्रुप में ट्रेनिंग ली। कंगना जी ने फिर कई सारे थियेटर के कई सारे नाटकों में एक्टिंग भी की। एक बार नाटक के समय जब एक मेल आर्टिस्ट गायब हो गया तो उन्होंने उसकी जगह भी एक्टिंग की। जिसे लोगों ने खूब सराहा। अरविंद जी ने इनको बहुत सपोर्ट किया और कहा कि ये बहुत सही समय तुम्हारे लिए तुम बॉलीवुड में ट्राई कर सकती हो। उसके बाद वो मुम्बई आ गयीं और आशा चंद्रा ड्रामा स्कूल में एक्टिंग कोर्स के लिए एडमिशन ले लिया। उसमें उन्हें अपना घर चलाने में भी बहुत परेशानी हो रही थी क्योंकि उन्होंने अपने पिताजी से आर्थिक मदद लेने से भी इनकार कर दिया था। फिल्म इंडस्ट्री में जाने के उनके फैसले से उनके परिवार या रिश्तेदारों में कोई भी खुश नहीं था।

Biography of Akshay Kumar in Hindi

फैमिली सपोर्ट की कमी तो उन्हें बहुत खलती थी मगर मन में बहुत मजबूत इरादा भी था कि कुछ तो करना है। हालांकि एक छोटे शहर की लड़की का मुम्बई तक पहुंचने का सफर कभी भी आसान नहीं होता। आर्थिक दिक्कतें तो थी ही साथियों ने भरमाने वाले लोग भी बहुत मिले जो उन्हें बड़ा बनाने के सपने तो दिखाते थे मगर उनकी नीयत बिल्कुल भी अच्छी नहीं थी। सबसे बड़ी बात कि उनकी उम्र उस समय 17 साल की थी। वो समय उनके लिए न सिर्फ आर्थिक बल्कि मानसिक रूप से भी बहुत मुश्किल था।

लेकिन वो उन सभी परिस्थितियों से निपटी। दोस्तो कहते हैं न कि समय कभी भी एक जैसा नहीं होता। वैसे ही कंगना जी की जिंदगी में कुछ समय ऐसे भी आए जिसने उन्हें स्टार बना दिया। वो फिल्म गैंगस्टर में लीडिंग रोल के लिए एक एजेंट के माध्यम से डायरेक्टर अनुराग बासु जी से मिलीं। उनका ऑडिशन तो बहुत अच्छा गया मगर फिल्म के प्रोड्यूसर महेश भट्ट जी को लगा कि इस रोल के लिए उनकी उम्र बहुत कम है। इसलिए उन्होंने चित्रांगदा सिंह को ले लिया। मगर चित्रांगदा जी पर्सनल कारणों की वजह से वो फिल्म नहीं कर पाईं। इसके बाद कंगना जी को ये फिल्म करने का ऑफर मिल गया।

Kangana Ranaut Biography in Hindi
Kangana Ranaut Biography in Hindi

 

जैसा कि आपने फिल्मों में देखा होगा उनका रोल बहुत मुश्किल था और उस उम्र की लड़की के लिए ये बहुत चुनौती भरा भी था लेकिन उन्होंने उसे बहुत अच्छे से निभाया और फिल्म सफल भी हुई। 2006 में जब ये फिल्म आई थी तो सिर्फ 19 साल की थीं मगर उनके काम की बहुत तारीफ हुई। इस रोल के लिए उन्हें बेस्ट फीमेल डेब्यू का अवॉर्ड भी मिला। इसके बाद उन्होंने फिल्म वो लमहे में काम किया। कहा जाता है कि ये फिल्म एक्ट्रेस परवीन बाबी जी के जीवन पर आधारित है। इस फिल्म के लिए काम करते वक्त वो उस पात्र में इतना घुस गई थीं कि उन्हें भी वो खालीपन महसूस होने लगा था। हालांकि अच्छे रिव्यूज के बावजूद ये फिल्म कुछ ज्यादा नहीं चली। जब वो फिल्म राज : the mystery कंटिन्यू में काम कर रही थीं तो द इंडियन एक्सप्रेस ने उनके बारे में कहा कि वो उसी तरह की फिल्में कर रही हैं जिसमें पात्र को दिमाग संबंधी कोई समस्या हो और अपने करियर को stable रखने के लिए उन्हें अपनी

पब्लिक इमेज बदलना बहुत जरूरी है। 2011 में आई फिल्म तनु वेड्स मनु काफी चल गयी और लगभग 70 करोड़ का कलेक्शन किया। कंगना रानाउत के करियर के लिए ये फिल्म बहुत अच्छी साबित हुई और वो एक सुपरस्टार के रूप में जानी जाने लगी। हालांकि उसके बाद उनकी कुछ फिल्में फिर से फ्लॉप हुईं मगर फिर क्रिश थ्री , क्वीन और तनु वेड्स मनु रिटर्न्स ने उनके करियर को और चमका दिया। कहा जाता है कि राकेश रोशन द्वारा प्रोड्यूस की जाने वाली फिल्म क्रिश थ्री में एक्टिंग करने के ऑफर को उन्होंने पहले मना कर दिया था क्योंकि इससे पहले फिल्म काइट्स में उन्हें वादा करने के बावजूद बहुत थोड़े समय का रोल दिया गया था मगर ऋतिक रोशन उनके पास गए और उन्हें समझाया कि इस बार उनका रोल छोटा नहीं होगा।

जिसके बाद वो फिल्म करने के लिए मान गयीं और वो फिल्म सुपर डुपर हिट रही और उसने 300 करोड़ का बिजनेस किया। हीरोइन केन्द्रित मूवी क्वीन को भी उन्होंने अकेले अपने अभिनय के दम पर सुपरहिट बना दिया और फिल्में लगभग 97 करोड़ का बिजनेस किया। इसके लिए उन्हें बेस्ट एक्ट्रेस का नेशनल अवॉर्ड और फिल्मफेयर अवॉर्ड भी मिला। फिल्म तनु वेड्स मनु रिटर्न्स में तो उनका चुनौती भरा डबल रोल था जिसमें उन्हें एक एथलीट भी बनना था इसके लिए उन्होंने हरियाणवी सीखी और ट्रिपल जंप की ट्रेनिंग ली। फिल्म के रिव्यू में उनकी बहुत तारीफ की गई और ये भी कहा गया कि इन दोनों रोल्स को कंगना ने करेक्टर के हिसाब से इतने अच्छे से निभाया है कि दोनों बहुत अलग अलग लग रहे थे और ये कहना मुश्किल है कि दोनों को एक ही एक्ट्रेस ने किया है। उन्हें फिर से बेस्ट एक्ट्रेस के लिए नेशनल फिल्म अवॉर्ड मिला।

उनकी फिल्म मणिकर्णिका द क्वीन ऑफ झांसी के लिए भी शुरूआत में बहुत दिक्कतें आईं। डायरेक्टर क्रिश बीच में ही फिल्म का डायरेक्शन छोड़ कर चले गए। कंगना नहीं फिल्म डायरेक्टर का भी काम किया है। सोनू सूद भी इस फिल्म में काम करने वाले थे मगर डेट्स की प्रॉब्लम होने के कारण उन्होंने भी छोड़ दिया। दोस्तों आज तो एक सुपरस्टार हैं मगर उनका कहना है कि जब वह इंडस्ट्री में आई थीं तब लोग उनके साथ ऐसे व्यवहार करते थे जैसे उनकी कोई वैल्यू ही नहीं है या उन्हें कहीं भी कुछ भी बोलने का हक नहीं है। वे इंग्लिश में बहुत अच्छी नहीं थीं और इस बात का लोग बहुत मजाक भी बनाते थे। इसलिए लोगों के द्वारा रिजेक्ट किए जाना उनकी जिंदगी का हिस्सा बन गया था। ऋतिक रोशन के साथ उनका जो झगड़ा हुआ उसकी वजह से भी वो बहुत परेशान रहीं। वो कहती हैं उस समय वो कई रातों तक सो नहीं पाती थीं और रोती रहती थीं।

उनका कहना है कि रितिक और वो एक दूसरे से प्यार करते थे। मगर जब बात बाहर निकलने लगी तो रितिक ने पब्लिकली उनके साथ कोई भी रिश्ता होने से इनकार कर दिया था और उनका कहना था कि कंगना किसी और इंसान के साथ रिलेशन में हैं और उन्हें ई मेल्स भेजा करती हैं और बात इतनी आगे बढ़ गई थी कि ऋतिक ने उन्हें कई सारे मेल्स पब्लिक कर दिए थे और कहा था कि उन्हें ये सब मेल फॉरवर्ड किए गए हैं। हालांकि कंगना का कहना था कि उनमें से बहुत से मेल्स उन्होंने कभी लिखे ही नहीं थे और ये उन्हें बदनाम करने की चाल है। वो ये भी कहती हैं कि इन बेबुनियाद आरोपों के कारण वो इतनी परेशान हो

गई थीं कि उन्हें लगा कि शायद अब वो कभी भी नॉर्मल ना हो पाएं। हालांकि इन सब में क्या और कितनी सच्चाई है ये कोई भी नहीं बता सकता और किसी की जिंदगी के बारे में अपना पर्सनल ओपिनियन देना मेरा काम भी नहीं है। उनके परिवार में एक और बड़ा हादसा हुआ जिसने उनके जीवन पर गहरी छाप छोड़ी। कंगना जी की बहन रंगोली जी के ऊपर 2006 में देहरादून में दो गुंडों ने एसिड फेंक दिया था जिसकी वजह से उनके चेहरे सीने और आँख में बहुत घाव हो गए थे और उनकी एक आंख 90 प्रतिशत तक खराब हो चुकी है। हालांकि उनके चेहरे को प्लास्टिक सर्जरी से काफी हद तक ठीक कर दिया गया है मगर उसके लिए उन्हें 57 सर्जरी करानी पड़ी थी।

कंगना उस समय स्ट्रगल कर रहीं थी फिर जियो ने बॉम्बे लेकर आईं और उनकी देखभाल की। इस समय वो कंगना की मैनेजर की तरह उनके सारे काम देखती हैं। मगर एक बात तो सच है कि इन सबके बावजूद उन्होंने कभी भी इन सभी प्रॉब्लम्स को पूरी तरह अपने ऊपर हावी नहीं होने दिया और हमेशा अपने काम पर ध्यान दिया। वो कहती हैं कि उन्हें अपनी आम लड़की से सुपरस्टार बनने की कहानी पर बहुत गर्व है। तो दोस्तो ये थी एक्ट्रेस कंगना रनौत की जिन्दगी से जुड़ी कुछ बातें आपको ये आर्टिकल ( information aboout Kangana Ranaut in hindi ) कैसा लगा कमेंट करके हमें जरूर बताएं।

Leave a Comment